20 जनवरी, 2018

सागर का जल खारा








सागर का जल खारा
पर वह इससे भी न हारा
सोचा क्यूँ न इसीसे
प्यास बुझा ली जाए  
पहुँचा तट पर 
जल पीने को
 जैसे ही अंजुली भरी
मुँह तक उसे  ले कर आया
पर एक बूँद भी ना  पी  पाया
बहुत ही खारा उसे पाया
एक विचार मन में आया  
क्या फायदा ऐसे जल का
जब प्यासे को पानी न मिले 
हुआ बहुत उदास
 फिर सोचा कितने ही
जीव जंतुओं  का घर है यहाँ
उसे जल न मिला तो क्या
जलचरों को मिलता खाना
रहने को घर यहाँ
है बहुत महत्व इसका
वर्षा का स्रोत है यह
बादल जल पाते हैं इससे
पर्यावरण संतुलित होता जिससे |


आशा

17 जनवरी, 2018

रघुवर तुमसे मैं हारी



रघुवर तुमसे मैं हारी
अनुनय कभी न सुनी मेरी
 ना कोई दुःख ना असंतोष
पर फिर भी कहीं कोई कमी रही
जो खल रही मुझको
 जब से तुमसे दूरी पाली
 ऐसा कभी सोचा न था
क्यों तुमसे दूरी पाली 
अनुनय विनय और सभी जतन 
निकले थोथे  मैं हारी 
कोई राह दिखाओ मुझको 
रघुवर दूरी अब सही  न जाती |
आशा












16 जनवरी, 2018

अलाव


सर्द हवाओं के झोंकों से
 ठण्ड बढ़ी
ठिठुरते लोग  सड़क पार तम्बू में ठहरे 
फटे बिस्तर में दुबके लोग 
पर बच्चों की चंचल वृत्ति 
खींच लाई उन्हें सड़क पर 
जल्दी-जल्दी निकालीं
 छोटी-छोटी लकड़ियाँ
पोलीथीन में रखी
 सूखी पत्तियाँ
माचिस जलाई 
 आग लगाई 
की बहुत मशक्कत
 अलाव जलाने में 
धीरे-धीरे सुलगा अलाव 
धुआँ उठा लौ निकली 
चमकने लगे
 सुलगते अंगारे 
और बढ़ने लगी 
थोड़ी-थोड़ी गर्मी 
आ गयी चेहरों पर सुर्खी 
बच्चों के प्रयत्नों की ! 
जब आई बच्चों की आवाज़ 
झाँक कर बाहर देखा 
फेंकी चादर निकले बाहर 
देख कर जलताअलाव !
हुआ गर्व बालकों पर 
उनकी सूझ बूझ से
 कुछ तो राहत पाई 
आते जाते हाथ सेंकते 
सड़क पर चलते लोग 
और बढ़ जाती बच्चों की 
आँखों में चमक
  और अधरों पर मुस्कान ! 


आशा सक्सेना 



14 जनवरी, 2018

क्षणिकाएं



आपने अफसाना अपना सुनाया
सभी के दिलों को बहकाया
जब अपने पास बुलाया
कुछ पलों को थमता सा पाया
आपके शब्दों की कसक
कानों में गूंजती रही वर्षों तक !

दीप जलाया मन मंदिर में 
हवा के झोंके सह न सका
था बुझने के कगार पर
अंतर्वेदना तक प्रगट न कर पाया
कसमसाया भभका और बुझ गया 

नीला समुन्दर नीला आसमान 
धरती बहुरंगी इंद्र धनुष सामान 
आशा उपजती इसे निहारने की 
समस्त रंग जीवन में उतारने की  |

मुझ से टकरा कर चले जाते हैं
न जाने क्या है मुझसे वैर उनका
न जाने की खबर देते हैंन आने कीआहट
 बस मन के तार छेड़ जाते हैं |...
और देखें

आशा

09 जनवरी, 2018

सकारात्मक सोच


positivity - abstract pics के लिए इमेज परिणाम

केवल अधिकारों की देते हैं जानकारी 
पर कर्तव्यविहीन हो रही सोच हमारी 
खुल कर बोलना है अधिकार हमारा 
कब बोलना, कहाँ बोलना व विवादों को 
देना निमंत्रण क्या दुरुपयोग नहीं ! 
हँसना हँसाना लगता तो है भला 
पर कटु भाषण और व्यंगाबाण 
मन पर करते प्रहार 
संतुलित आचरण रहा तो रिश्ते संवरें 
पर बिना बात के ताने 
मन की सुख शान्ति हर ले जाएँ 
है यह स्वयं का विवेक 
हम किस मार्ग पर जाएँ 
कहीं संस्कारविहीन नहीं हुए हों 
अच्छी सोच हो खिले पुष्पों की तरह 
जो खुद तो महके ही अपने 
आस पास को भी चमन बना दे
खुशबू दिग्दिगंत तक जाए ! 


आशा सक्सेना 






04 जनवरी, 2018

एक वादा खुद से




है वादा अपने आप से 
इस वर्ष के लिए 
है यह पहला वादा 
शायद यह तो पूरा 
कर ही सकते हैं ! 
अधिक की अपेक्षा नहीं की 
आज तक कभी
ज़िंदगी की आख़िरी साँस तक !
यह कुछ कठिन तो नहीं ! 
बस खुद पर संयम ही 
काफी है इसके लिए ! 
नया कभी चाहा ही नहीं !
मन पर नियंत्रण से 
निकाल दो नकारात्मक 
विचारों को 
फिर देखो प्रभाव मन पर ! 


आशा सक्सेना 



31 दिसंबर, 2017

हे नव वर्ष तुम्हारा स्वागत है !

Happy new year 2018 pics के लिए इमेज परिणाम

हे नव वर्ष 
तुम्हारा स्वागत मेरे दर पर 
कबसे राह तुम्हारी जोह रही 
बहुत स्नेह से आज को विदा किया है 
अब आई तुम्हारे स्वागत की बारी 
प्रथम करण आदित्य की 
बैठी पलक पसारे 
तुम्हारी बाट निहारे 
ओस कणों से पैर पखारे 
कोमल कोंपल वृक्ष वृन्द संग 
पलक पांवड़े बिछाए 
तन मन धन से करे स्वागत 
तुम्हें विशेष बनाए 
सारा साल खुशियों से भरा हो
भाईचारा आपस में रहे 
यही मेरा मन कहे 
सुख सम्पदा भरपूर रहे 
पूरी श्रद्धा से सम्पूर्ण वर्ष 
प्रसन्नता से भर जाए ! 

नव वर्ष की आप सभीको हार्दिक शुभकामनाएं !

आशा सक्सेना