29 सितंबर, 2013

टीस



शीशा टूटा
किरच किरच बिखरा
हादसा ऐसा हुआ
तन मन घायल कर गया
तन के घाव भरने लगे
समय के साथ सुधरने लगे
मन के घावों का क्या करे
जिनका कोई इलाज नहीं
यूं तो कहा जाता है
समय के साथ हर जख्म
स्वयं भरता जाता है
खून का रिसाव थम जाता है
पर आज जब जीवन की
 शाम उतर आई है
सब यथावत चल रहा है
पर उन जख्मों में
कोई  परिवर्तन नहीं
 रह रह कर टीस उभरती है
बेचैनी बढ़ती जाती है
उदासी घिरती जाती है |